Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

मैं जीतता हूँ पर लगता है हार जाता हूँ

अंदर से लड़ता हूँ बहार से हार जाता हूँ
मैं जीतता हूँ पर लगता है हार जाता हूँ

142 Views
You may also like:
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
“ गंगा ” का सन्देश
DESH RAJ
"शिवाजी और उनके द्वारा किए समाज सुधार के कार्य"
Pravesh Shinde
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
विजय कुमार 'विजय'
पिता की पीड़ा पर गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️✍️गांधी✍️✍️
'अशांत' शेखर
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
रजनी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
रहने वाली वो परी थी ख़्वाबों के शहर में
Faza Saaz
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
है जी कोई खरीददार?
Shekhar Chandra Mitra
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
स्त्री और नदी का स्वच्छन्द विचरण घातक और विनाशकारी
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
क्या फायदा...
Abhishek Pandey Abhi
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
कोशिश
Anamika Singh
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
हर घर तिरंगा प्यारा हो - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- जल (Water)
Sahityapedia
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मेरी हर शय बात करती है
Sandeep Albela
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
Loading...