Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 30, 2016 · 1 min read

मैं छोटा सही मुझको आता बहुत है

मैं छोटा सही मुझ को आता बहुत है
कि जीने का मुझको सलीक़ा बहुत है
———–
न सोचा न देखा न समझा बहुत है
जमाने तुझे हमने परखा –बहुत है
—————–
मिलें चाँद सूरज ये खाहिश नही की
मुक़ददर का अपने सितारा बहुत है
—————-
इसे क्या उसे क्या इन्हें क्या उन्हें क्या
ज़माने ने हमको भी लूटा बहुत है
—————–
यक़ीं हम ज़माने पे करते भी कैसे
भरोसा है कम और धोका बहुत है
———-
अभी मुझसे आँखें वो फेरेंगे कैसे
अभी जेब में मेरी पैसा बहुत है

281 Views
You may also like:
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...