Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मैं चिर पीड़ा का गायक हूं

प्रिये प्रणय के अनुबंधों को,
बोलो कैसे आधार मिले।
तुम स्वर्णिम आभा महलों की
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं….

🍁🍁🍁

तुम सरल व्याकरण जीवन की
मैं अर्थहीन परिभाषा हूं।
तुम धनवानों की कृपण दृष्टि,
मैं याचक की अभिलाषा हूं।
तुम हो पुष्पों की मधुर गंध,
मैं वसुधा का आलिंगन हूं।
तुम प्रथम मिलन का आह्लादन
मैं दुःख का करुणा क्रंदन हूं।
तुम शुभ्र छटा हो वासन्ती
मैं पतझड़ का अधिनायक हूं।
तुम स्वर्णिम आभा महलों की
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं….

🍁🍁🍁

तुम ज्येष्ठ मास की तीव्र धूप,
मैं श्रावण सी शीतलता हूं।
तुम चंचल धारा नदियों की,
मैं तटबंधों की स्थिरता हूं।
तुम पूर्ण चंद्र की मध्य रात्रि
मैं कृष्ण पक्ष की बेला हूं।
तुम उदित सूर्य सम तेज युक्त
मैं जलता दिया अकेला हूं।
तुम मृग शावक सी हो कोमल,
मैं दृढ़ता का परिचायक हूं।
तुम स्वर्णिम आभा महलों की
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं….

🍁🍁🍁

तुम सुंदरता की सहज मूर्ति,
मैं श्याम वर्ण का द्योतक हूं।
तुम विषयों की अनुरक्ति प्रिये
मैं मोक्ष मार्ग का पोषक हूं।
तुम अंबर सी उन्मुक्त सदा,
मैं भावों में अनुबंधित हूं।
तुम इतराती हो वैभव पर
मैं निर्धनता में वन्दित हूं।
तुम करो ईर्ष्या लोगों से
मैं प्रेम सुधा रस दायक हूं।
तुम स्वर्णिम आभा महलों की,
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं….

🍁🍁🍁

विमल शर्मा’विमल’
हरगांव, सीतापुर

3 Likes · 2 Comments · 95 Views
You may also like:
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
अख़बार
आकाश महेशपुरी
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
✍️थोड़ा थक गया हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
"अंतरात्मा"
Dr. Alpa H. Amin
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
नारियल
Buddha Prakash
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...