Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2022 · 1 min read

मैं कहता आंखन देखी

मेरा फ़न एक तोहफ़ा
किसी रोशन ज़मीर का!
मैंने शुरू की शायरी
लेकर जज़्बा फ़कीर का!!
आख़िर अपनी क़लम
कैसे नीलाम कर दूं!
कुचल कर अपनी गैरत
मैं वारिस कबीर का!!
#freedom #हकमारी #Kabir
#हिम्मत #हल्लाबोल #विद्रोही
#इंकलाब #जनता_की_आवाज
#बगावत #शायर #क्रांति #कवि

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2259.
2259.
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-350💐
💐प्रेम कौतुक-350💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
मैं आग लगाने आया हूं
मैं आग लगाने आया हूं
Shekhar Chandra Mitra
या'रब किसी इंसान को
या'रब किसी इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
हिद्दत-ए-नज़र
हिद्दत-ए-नज़र
Shyam Sundar Subramanian
■ होली का हुल्लड़...
■ होली का हुल्लड़...
*Author प्रणय प्रभात*
रूकतापुर...
रूकतापुर...
Shashi Dhar Kumar
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मरहम नहीं बस दुआ दे दो ।
मरहम नहीं बस दुआ दे दो ।
Buddha Prakash
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिंदी
हिंदी
नन्दलाल सुथार "राही"
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er Sanjay Shrivastava
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
Ravi Prakash
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
संत साईं बाबा
संत साईं बाबा
Pravesh Shinde
छोटी छोटी कढ़ियों से बनी जंजीर
छोटी छोटी कढ़ियों से बनी जंजीर
Dr. Rajiv
बड़ा हथियार
बड़ा हथियार
Satish Srijan
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा मुसाफिर
मन के ब्यथा जिनगी से
मन के ब्यथा जिनगी से
Ram Babu Mandal
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
Manisha Manjari
Loading...