Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 10, 2022 · 1 min read

मैं और मांझी

कितने शीत, ताप फिर वृष्टि
ये आंखों को दिखलाएगी ?
जाने विधना की गति आगे
और कहाँ ले जाएगी ?
जीवन की जलधारा में
डगमग नैया डोल रही है।
उद्विग्नता मांझी की,
मेरे मन को झकझोर रही है।
खुद बैठा पतवार छोड़ वो
हो निराश सब तजे प्रयास ।
मैं पकडूं पतवार हाथ जो
मुझ पर भी न है विश्वास ।
दोनों ही स्थितियों में,
कैसे नाव लगेगी पार ?
मुझे उतरना है इस पार
उसे उतरना है उस पार ।
साथ एक यह जिम्मेदारी
चाहे नाव लगे जिस पार
संग उतरना है दोनों को
हो इस पार या उस पार |
इसीलिए पतवार फेंक दी
हे प्रभु मेरे सिरजनहार !
अब चाहे इस पार लगाओ
या ले जाओ फिर उस पार।

95 Views
You may also like:
सजा मुस्कराने की क्या होगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
✍️बात बात में..✍️
'अशांत' शेखर
जिनकी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
नाम
Ranjit Jha
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिलन
Anamika Singh
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
✍️जर्रे में रह जाऊँगा✍️
'अशांत' शेखर
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राजनेता
Aditya Prakash
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
"रिश्ते"
Ajit Kumar "Karn"
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी पर भारी
Dr fauzia Naseem shad
तुम गैर कबसे हो गए ?...
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
'अशांत' शेखर
घड़ी और समय
Buddha Prakash
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
Loading...