Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-162💐

मैं उनकी हद हूँ,
वह मेरी हद हैं।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
54 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम तुम्हें सोचते हैं
हम तुम्हें सोचते हैं
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
ओ मेरी जान
ओ मेरी जान
gurudeenverma198
हरि से मांगो,
हरि से मांगो,
Satish Srijan
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
Rohit Kaushik
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
DrLakshman Jha Parimal
चेहरा
चेहरा
नन्दलाल सुथार "राही"
शायरी
शायरी
goutam shaw
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
गुप्तरत्न
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*"तिरंगा झंडा"*
Shashi kala vyas
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er Sanjay Shrivastava
रंग बरसे
रंग बरसे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कहानी *
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
💐प्रेम कौतुक-228💐
💐प्रेम कौतुक-228💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सहजता
सहजता
Sanjay
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा-*
दोहा-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*मुकदमा  (कुंडलिया)*
*मुकदमा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
Amit Pandey
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
शक्ति राव मणि
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
जज़्बात-ए-दिल
जज़्बात-ए-दिल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...