Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 9, 2022 · 1 min read

“मैंने दिल तुझको दिया”

🌹”मैंने दिल तुझको दिया”🌹
🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲

तीरे नयन से तूने जो इतना घायल किया,
ऑंखोंं से कुछ कहके नित पागल किया ,
इस ठहरे हुए दिल में कुछ हलचल किया,
तभी अपना ये दिल, मैंने तुझको ही दिया।

संजोया था जो अरमाॅं वो तुझमें ही दिखा,
मेरे ख़्वाबों का मंज़िल तेरा दिल ही दिखा,
महज़ संयोग कहें या भाग्य का ही लिखा,
तभी अपना ये दिल, मैंने तुझको ही दिया।

तुझमें दिखा मुझे, इक स्वप्निल सा संसार ,
फिदा होके तुझपे, देख तेरा सोलह श्रृंगार,
सोचा तुझपे ही क्यों न करूॅं ये जाॅं-निसार,
तभी अपना ये दिल, मैंने तुझको ही दिया।

सारे रस्मो-रिवाज़, तेरे संग ही निभाने को ,
तुझपे एक सुंदर सा ग़ज़ल लिख जाने को,
तेरी खुशबू से महकती बगिया सजाने को ,
जहाॅं से ढूॅंढ़कर तुझे,मैंने दिल तुझको दिया।

( स्वरचित एवं मौलिक )

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️
~ किशनगंज ( बिहार )
दिनांक :- 20 / 03 / 2022.
“””””””””””””””””””””””””””””””””
🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿

5 Likes · 186 Views
You may also like:
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
दुआ
Alok Saxena
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
** The Highway road **
Buddha Prakash
Loading...