Oct 11, 2016 · 1 min read

मेहनत

तू क्यूं करता है तुलना उनसे
जो रहते है जग में बनकर न्यारे
जरा देख उन्हे भी
जो रहते है भूखे पेट बिचारे

धन्य हो तुम
जो ईश्वर ने
दो हाथ दिये कथनी करने के लिये
पथ पर चलने के लिये दो पैर दिये
तू क्यूं करता है तुलना उनसे
जो रहते है जग में बनकर न्यारे

ईश्वर साथ उन्ही का देता
जो खुद मे खुश रहते है
मुख मोड़ उन्ही से लेता ईश्वर
हाथ धरे जो रोते है
तू क्यूं करता है तुलना उनसे
जो रहते है जग में बनकर न्यारे

किस्मत के इस खेल में
क्यूं व्यर्थ समय बरबाद करो
करके देखो मेहनत
किस्मत पर तुम राज करो
तू क्यूं करता है तुलना उनसे
जो रहते है जग में बनकर न्यारे

इन्सान वही जो हर दुख में
हसकर आगे बड़ता है
शस्त्रविहीन होकर भी
हर पापी से लड़ता है
तू क्यूं करता है तुलना उनसे
जो रहते है जग में बनकर न्यारे

– सोनिका मिश्रा

1 Like · 6 Comments · 482 Views
You may also like:
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
जल की अहमियत
Utsav Kumar Vats
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हनुमंता
Dhirendra Panchal
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
पिता
Santoshi devi
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
Loading...