Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Sep 2016 · 1 min read

मेहनत ही भाग्य विधाता है / कविता

कुछ कर दिखाने को ठानो तो सही,
यहाँ मेहनत ही भाग्य विधाता है !

बेमतलब परेशान क्यों होता है,
बीज बोता है वही फल पाता है !

मुश्किल वक्त में साहस जो दिखाता है,
वो ही इंसा सागर पार होता है !

वो जीत लेगा सारा जहा एकदिन,
हर ग़म सह के जो भी रे हँसता है !

पंछी बन चुम ले ऊँची आसमां को,
सच कर सपने लिख जा ना ईबारत !

न कर घंमड़ यहाँ किसी चीज़ पर रे,
कब दे जाए धोखा क्या किस्मत !

दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 5374 Views
You may also like:
मैं आ रहा हूं ना बस यही बताना चाहतें हो...
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गीत
Nityanand Vajpayee
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
"हिंदी से हिंद का रक्षण करें"
पंकज कुमार कर्ण
गोविंद से बड़ा होता गुरु है
gurudeenverma198
कब बरसोगें
Swami Ganganiya
मेरा बचपन
Alok Vaid Azad
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
पैसों की भूख
AMRESH KUMAR VERMA
इन जुल्फों के साये में रहने दो
VINOD KUMAR CHAUHAN
*रामपुर(मुक्तक)*
Ravi Prakash
आस्तीक भाग -नौ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम मुझे भूल थोड़ी जाओगे
Dr fauzia Naseem shad
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम भी बढ़ो हम भी बड़े
कवि दीपक बवेजा
इश्क
goutam shaw
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फिर बता तेरे दर पे कौन रुके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
" व्यथा पेड़ की"
Dr Meenu Poonia
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️किताबें और इंसान✍️
'अशांत' शेखर
फरेबी दुनिया की मतलब प्रस्दगी
Umender kumar
अतीत का अफसोस क्या करना।
पीयूष धामी
धम्म चक्र प्रवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...