Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*

कष्ट स्वयं महसूस किया, वे कष्ट की भाषा लिखते थे
पढ़े – लिखे मेधावी होकर, साधारण से दिखते थे
कष्ट स्वयं महसूस………..
1) पुरुष नहीं वे आइना थे, सामाजिकता लाते थे
दु:ख से ओतप्रोत समाज में, लेख से जाने जाते थे
गाँव – शहर के दुखड़ों से वे, स्वयं भी बहुत बिलखते थे
कष्ट स्वयं महसूस……….
2) लेख थे उनके क्रांतिकारी, अंग्रेजी डर जाते थे
भय था उनको सिंह के जैसा, पर कुछ ना कर पाते थे
लेख लिखे सबको पढ़वाये, वे क्रांति अलख ही चाहते थे
कष्ट स्वयं महसूस……….
3) भरा था जीवन कष्टों से, पर सामाजिकता न छोड़ी
बचपन में माता गुजरी, फिर पिता ने भी सांसें तोड़ी
फिर भी अविचल होकर, लेखन में झण्डे लहरते थे
कष्ट स्वयं महसूस……….
4) मैं भी उनके लेख पढ़ा, मैं खूब हंसा जी भर रोया
दिल को बड़ा सुकून मिला, मैं कई दिनों तक था सोया
उनके लेख सब जन-जन को हीरे- मोती से रहते थे
कष्ट स्वयं महसूस………
लेखक:- खैमसिंह सैनी
Mob.no. :- 9266034599

4 Likes · 2 Comments · 185 Views
You may also like:
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जग के पिता
DESH RAJ
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तलाश
Dr. Rajeev Jain
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Rajiv Vishal
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
Loading...