Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मेरे क़त्ल की ख़बर

मेरे क़त्ल की ख़बर किसी को पता क्यों नहीं,
उनकी बेरुखी ने मुझे जिन्दा तो नही छोड़ा।
**** ****
जिस दीपक के उजियाले से तेरा चेहरा रोशन होगा,
उस दीपक के नूर की ख़ातिर हैं ये शमां जलाए है,
काश कोई हमको बतला दे,
तेरी आँखों के दीपक में कितने राज़ समाए है।
**** ****
कहाँ गई उनके चेहरे की मासूमियत,
अब तो उनकी आँखों से ही डर लगता है।
रात को कब्रगाह का सन्नाटा कुबूल है,
पर हमें ख़ुद की साँसों से भी डर लगता है।
**** *****
उनसे जी भर के कभी रूबरु न हो सके
जिनसे ख़्वाबों में मिले बिना सहर नहीं होती।

156 Views
You may also like:
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
हौसला
Mahendra Rai
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
जीवन
vikash Kumar Nidan
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
बचपन
Anamika Singh
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H. Amin
Loading...