Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2022 · 1 min read

मेरे साथी!

मेरी हर साँसों पर साथी,
तेरा नाम लिखा है।
मेरे हर रूह में साथी ,
तेरे लिए प्यार बसा है।
वह तो ऐसे ही साथी,
मैं नोक-झोंक कर लेती हूँ।
तुम समय नही देते मुझको,
यह कहकर लड़ लेती हूँ।
पर मैं भी जानती हूँ साथी,
तुम मेरे लिए ही भाग रहे हो।
दिन -रात अपना समय तुम,
हम सब के लिए त्याग रहे हो।
मैं भी कहाँ तुमसे साथी
दिल से कभी मै लड़ती हूँ।
वह तो वैसे ही तुम्हें चिढ़ाने के लिए
यह बात मै तुमसे कहती हूँ।
मै कैसे बताऊँ तुमको साथी,
मैं तुम्हें कितना प्यार करती हूँ।
आसमान में तारे नही जितना,
सागर नहीं है जितना गहरा।
उतनी गहरे दिल से साथी,
मै तुम्हें चाहती हूँ।
तुम हमेशा खुश रहो जीवन में,
ईश्वर से रोज यही दुआ माँगती हूँ।
अनामिका

8 Likes · 12 Comments · 315 Views
You may also like:
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
रेत   का   घर 
Alok Saxena
आप दिल से
Dr fauzia Naseem shad
बदला नहीं लेना किसीसे, बदल के हमको दिखाना है।
Uday kumar
भारत के वर्तमान हालात
कवि दीपक बवेजा
आत्मविश्वास
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️लबो ने मुस्कुराना सिख लिया
'अशांत' शेखर
संविधान को लागू करने की ज़िम्मेदारी
Shekhar Chandra Mitra
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आईने के पास जाना है
Vinit kumar
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
कभी न होते आम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार
विशाल शुक्ल
शब्दों को गुनगुनाने दें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
हकीकत
पीयूष धामी
अहसान है तुम्हारा।
Taj Mohammad
जिन्दगी और दर्द
Anamika Singh
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फरेबी दुनिया की मतलब प्रस्दगी
Umender kumar
हाइकु कविता- करवाचौथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मित्र
लक्ष्मी सिंह
*मिट्टी की कहलाती हटरी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...