Oct 9, 2016 · 1 min read

मेरे शब्द/मंदीप

मेरे शब्द/मंदीप

मेरे शब्द मेरी पहचान बताते,
मेरे ही शब्द मेरा लोगो से परिचय करवाते।

है कितना घाव इस दिल में,
मेरे ही शब्द मेरे दिल का हाल बताते।

गिरते है जब भी आँखों से मेरे आँसु,
मेरे ही आँसू बिना बोले शब्द बन जाते।

रहता हूँ जब भी मै तन्हाइयो में,
मेरे ही शब्द मुझे गले से लगते है।

बोलता हूँ जब भी मे ऊँची आवाज में,
मेरे ही शब्द मुझे नीचा दिखाते है।

रूठता है जब भी कोई अपना,
मेरे ही शब्द उसे प्यार से मनाते।

है मेरे शब्दों की अमियत इतनी,
दुश्मन भी मुझे गले से लगाते।

कितना दूर रहा हु में सनम तुझ से
मेरे हर शब्द उस पल का अहसास करवाते।

है कोई “मंदीप” के दिल में कोई
आज कल मुझे उस के शब्द ही बहाते।

मंदीपसाई

150 Views
You may also like:
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
पिता
Manisha Manjari
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ
Dr Archana Gupta
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
Keshi Gupta
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
तन्हाई
Alok Saxena
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
Loading...