Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2016 · 1 min read

मेरे शब्द/मंदीप

मेरे शब्द/मंदीप

मेरे शब्द मेरी पहचान बताते,
मेरे ही शब्द मेरा लोगो से परिचय करवाते।

है कितना घाव इस दिल में,
मेरे ही शब्द मेरे दिल का हाल बताते।

गिरते है जब भी आँखों से मेरे आँसु,
मेरे ही आँसू बिना बोले शब्द बन जाते।

रहता हूँ जब भी मै तन्हाइयो में,
मेरे ही शब्द मुझे गले से लगते है।

बोलता हूँ जब भी मे ऊँची आवाज में,
मेरे ही शब्द मुझे नीचा दिखाते है।

रूठता है जब भी कोई अपना,
मेरे ही शब्द उसे प्यार से मनाते।

है मेरे शब्दों की अमियत इतनी,
दुश्मन भी मुझे गले से लगाते।

कितना दूर रहा हु में सनम तुझ से
मेरे हर शब्द उस पल का अहसास करवाते।

है कोई “मंदीप” के दिल में कोई
आज कल मुझे उस के शब्द ही बहाते।

मंदीपसाई

334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-340💐
💐प्रेम कौतुक-340💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
2281.पूर्णिका
2281.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
नव लेखिका
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
उम्मीद नहीं थी
उम्मीद नहीं थी
Surinder blackpen
क्यों किया एतबार
क्यों किया एतबार
Dr fauzia Naseem shad
दूर....
दूर....
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हाँ, यह विदाई बहुत अच्छी है
हाँ, यह विदाई बहुत अच्छी है
gurudeenverma198
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मात पिता के श्री चरणों में, ईश्वर शीश नवाएं
मात पिता के श्री चरणों में, ईश्वर शीश नवाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अविरल
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बतनामा
मुहब्बतनामा
shabina. Naaz
आखरी उत्तराधिकारी
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हमने की वफा।
हमने की वफा।
Taj Mohammad
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
'अशांत' शेखर
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
■ अनुभूत सच
■ अनुभूत सच
*Author प्रणय प्रभात*
दिन आये हैं मास्क के...
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
सपने 【 कुंडलिया】
सपने 【 कुंडलिया】
Ravi Prakash
🙏🏻 अभी मैं बच्चा हूं🙏🏻
🙏🏻 अभी मैं बच्चा हूं🙏🏻
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...