Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-306💐

मेरे शब्द तुम्हारा पीछा करेंगे।तुम ठहर कर उनसे बातें कर सकते हो।पर वो बात हृदय से करेंगे।हृदय से बात करना आती हो तो कर लेना।वो तुमसे बातें करके ही लौटेंगे।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
117 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
कहानी *
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
बेटियों से
बेटियों से
Shekhar Chandra Mitra
उपहार
उपहार
Satish Srijan
*कोहरा बहुत जरूरी(बाल कविता)*
*कोहरा बहुत जरूरी(बाल कविता)*
Ravi Prakash
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
रिद्धि सिद्धि के जन्म दिवस पर
रिद्धि सिद्धि के जन्म दिवस पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
#जवाब जिंदगी का#
#जवाब जिंदगी का#
Ram Babu Mandal
शायरी 1
शायरी 1
SURYAA
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
Seema gupta,Alwar
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
अमृता
अमृता
Surinder blackpen
उद् 🌷गार इक प्यार का
उद् 🌷गार इक प्यार का
Tarun Prasad
पाँव
पाँव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माया मोह के दलदल से
माया मोह के दलदल से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-226💐
💐प्रेम कौतुक-226💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझे विवाद में
मुझे विवाद में
*Author प्रणय प्रभात*
प्रतिबिंब
प्रतिबिंब
Dr. Rajiv
मेरा पिता! मुझको कभी गिरने नही देगा
मेरा पिता! मुझको कभी गिरने नही देगा
अनूप अम्बर
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
प्रदीप कुमार गुप्ता
उस जमाने को बीते जमाने हुए
उस जमाने को बीते जमाने हुए
Gouri tiwari
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
एक खूबसूरत पिंजरे जैसा था ,
लक्ष्मी सिंह
ये हवाएँ
ये हवाएँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
विचार मंच भाग - 4
विचार मंच भाग - 4
Rohit Kaushik
अमृत महोत्सव
अमृत महोत्सव
Mukesh Jeevanand
Loading...