Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 24, 2016 · 1 min read

मेरे प्रभु

प्रभु हो प्रभु तुम, मेरे प्रभु हो।
करुणा के सागर, दयालु बड़े हो।

जहाँ भी मैं जाऊँ, तेरा दर्श पाऊँ।
मुड़ के जो देखूँ, तुझे संग पाऊँ।।
मैं तेरी हूँ सेवक, तुम मेरे हो स्वामी।
तेरी भक्ति में ही, मेरी जिंदगी है।
प्रभु………….

तेरे संग रह के , करार आ रहा है।
मेरे बिखरे मन को, सँवारा है तूने।।
मैं जिस दिन ना देखूँ, तुम्हें मन के भीतर,
वो दिन मेरा प्रभुवर सूना रहेगा।।
प्रभु हो………

मेरे घर की बगिया में, कलियाँ खिली है।
मैं नन्हा सा पौधा, तू मेरा है माली।।
जिस दिन तू रूठा, कहाँ जाऊँगी में।
तेरे बिन ये जीवन पतझड़ रहेगा।।

रचनाकार….. Veena Mehta

342 Views
You may also like:
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
विजय कुमार 'विजय'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Kanchan Khanna
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
माँ
आकाश महेशपुरी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Ram Krishan Rastogi
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...