Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2022 · 1 min read

“मेरे पिता”

“मेरे पिता”

लिया जन्म जब मैंने इस सुंदर सँसार में,
घर के एक कोने में खड़े थे मेरे पिता।

मैं ज़ब रोए जा रहा था मां की गोदी में,
मंद मंद मुस्कुराए जा रहे थे मेरे पिता।

ईश्वर रूप में उन्हें पाके ख़ुश होना था मुझे,
मुझसे अधिक खुशी जता रहे थे मेरे पिता।

जमीं पे मैंने जब रखा अपना पहला क़दम,
उँगली पकड़ कर चलाए जा थे मेरे पिता।

मेरे उठने से पूर्व ही काम पर निकल जाते,
शाम को थक कर घर लौटते थे मेरे पिता।

रात को जब कभी नींद नहीं आती थी मुझे,
लोरी सुना चुपके से सुला देते थे मेरे पिता।

फ़िर खूबसूरत दौर आया मेरे स्कूल का ज़ब,
मेरी तख़्ती, क़लम, बस्ता बने वो थे मेरे पिता।

मुझे मालूम ही नहीं था क्या चीज़ है ये पैसा,
धूप में बहाया पसीना जिसने वो थे मेरे पिता।

ऑफिस से लौटता था जब मैं क़भी रात को,
मुझसे ज़्यादा मेरी परवाह करते थे मेरे पिता।

सुना है माँ से ज़्यादा प्रेम नहीं करता कोई चंदेल,
माँ से अधिक स्नेह मिला जिनसे वो थे मेरे पिता।

“विक्की चंदेल (चंदेल साहिब)”
“ज़िला:-बिलासपुर”
“देवभूमि हिमाचल प्रदेश”

Language: Hindi
Tag: कविता
13 Likes · 21 Comments · 214 Views
You may also like:
लगा हूँ...
Sandeep Albela
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
फ़ौजी
Lohit Tamta
सलामत् रहे ....
shabina. Naaz
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
श्यामपट
Buddha Prakash
हम-सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
राम राम
Sunita Gupta
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शहद वाला
शिवांश सिंघानिया
जीवन
Mahendra Narayan
समय
AMRESH KUMAR VERMA
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भगवान बताएं कैसे :भाग-1
AJAY AMITABH SUMAN
बदला या बदलाव?
Shekhar Chandra Mitra
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
लोग समझते क्यों नही ?
पीयूष धामी
✍️हम बाहर हो गये
'अशांत' शेखर
दिल ने
Anamika Singh
राष्ट्रीय एकता दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उसे चाहना
Nitu Sah
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पहले तेरे हाथों पर
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
"नजीबुल्लाह: एक महान राष्ट्रपति का दुखदाई अन्त"
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
कृष्ण के जन्मदिन का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
तुम रहने दो -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...