Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मेरे पिता

पिता हैं तो मुझे
सारा आसमान अपना लगता है।
दुनिया की हर चीज,
हर सामान अपना लगता है।

जन्म मां ने दिया हमको
पिता ने जीना सिखाया है।
गलत और सही में हमें,
फर्क करना सिखाया है

पिता से हम बच्चों के सारे
अरमान पूरे होते हैं,
सारी खुशियां सारे सपने
साकार होने लगते हैं,

वो डांटते हैं तो मुझे उनमें
उनका प्यार झलकता है,
उनकी सख्ती में भी
नरमी का एहसास दिखता है,

उनका एहसास भी
मेरे लिए उनका आर्शीवाद है
मेरे लिए मेरे पिता मेरे
भगवान हैं,

संघर्ष क्या होता है
ए मैंने अपने पिता से सीखा है,
अपने ग़म छुपाके बच्चों की खुशी में
मुस्कराते देखा है

मेरे पिता और पिता समान ससुर जी को समर्पित मेरी एक कविता ।
रूबी चेतन शुक्ला
अलीगंज
लखनऊ

6 Likes · 12 Comments · 223 Views
You may also like:
मेहनत
Arjun Chauhan
परवाह
Anamika Singh
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
असीम जिंदगी...
मनोज कर्ण
✍️हद ने दूरियां बदली✍️
'अशांत' शेखर
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
✍️क़हर✍️
'अशांत' शेखर
पापा हमारे..
Dr.Alpa Amin
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
पूरे किसी मेयार पर उतरे नहीं कभी ।
Dr fauzia Naseem shad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सीखने का हुनर
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
जिनकी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
-जीवनसाथी -
bharat gehlot
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
इश्क का गम।
Taj Mohammad
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
Loading...