Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 24, 2022 · 2 min read

मेरे पापा

मैं अपने पापा के गुणों को
पूरा लिख सकूँ,
वह कलम कहाँ से लाऊँ।
कलम अगर मिल भी जाए तो,
मेरे पापा के गुणों का पूरा अर्थ लिख सके,
वह शब्द कहाँ से लाऊँ।
फिर भी दिल ने चाहा है लिखना,
थोड़ा-बहुत अंश लिख रही हूँ।
जिसे मै अपने पापा के चरणों मे
समर्पित कर रही हूँ।

मेरे पापा मेरे लिए है
ईश्वर का एक रूप ।
पेशे से डॉक्टर हैं
इसलिए लोग उन्हें कहते हैं
ईश्वर का दूसरा स्वरूप ।

हम सब के अभिमान हैं पापा
हम सब का स्वाभिमान है पापा
हम सब का आस्तित्व है पापा
हम सबका वजूद है पापा।

हमारे घर के विश्वास को
आत्मविश्वास में बदल देते हैं मेरे पापा,
कितना भी थककर आएँ
आते ही घर मे खुशियाँ
बिखेर देते हैं मेरे पापा।

घर की जरूरत को तो छोड़िए
आस-पास के लोगों की
जरूरते भी पूरा करते हैं मेरे पापा
जिंदादिली का दूसरा नाम हैं मेरे पापा।

हम सबके हिम्मत और हौसला हैं पापा।
आज जहाँ भी हम खड़े है,
उसके निर्माता हैं मेरे पापा।
हम सब का आधार है पापा।

बचपन तो बचपन,
आज भी हम सबका
ख्याल रखते हैं पापा,
आज भी हम सब के
मुसीबत के सामने ढाल बनकर
खड़े रहते हैं पापा
हम सब के आँखो के सपनों को
धरातल पर रूप देने मे लगे रहते हैं पापा।

माँ हम सब के लिए धरती है
तो हम सबके लिए आसमान हैं पापा
जिन्होनें हमेशा हम सब पर
प्यार और आशीर्वाद का बारिश किया,
वह बादल हैं मेरे पापा।

सारे रिश्तो की जान है पापा
हम सब के लिए आन बान
और शान हैं पापा
हम सब की इज्जत, शोहरत,
रूतबा और मान हैं पापा
ईश्वर द्वारा भेजे गए
हम सब के लिए
वरदान हैं पापा।

~अनामिका सिंह
नई दिल्ली

7 Likes · 10 Comments · 79 Views
You may also like:
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता का दर्द
Nitu Sah
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
तलाश
Dr. Rajeev Jain
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
जवानी
Dr.sima
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
"अशांत" शेखर
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...