Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2022 · 1 min read

🌸🌼मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब🌼🌸

##मणिकर्णिका##
##हे बौनी,बौने का हाल चाल वा##

मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब,
मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब,
वो सुखन भरी आहटें थी उनकी,
दर्द की कोई क़ीमत न थी उनकी,
वो इठलाते रहे मुस्कुराते हुए,
उनकी मुस्कुराहट ही थी क़त्ल जैसी,
कब,कैसी जिन्दगी न देगा कोई अब,
मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब।।1।।
तमन्ना थी कि मेरे कन्धे पर,
उनका गूँचे से सजा सिर हो,
बागों में गेंदे के फूल खिलें,
उनसे मुलाक़ात फिर हो,
कोई कैसे भी सवाल न करेगा कोई अब,
मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब।।2।।
वो चुनरी ओढेंगे पीली सी,
और कहेंगे कि तुम हमें जँचते हो,
जान की बात अब कहाँ रही,
तुम मेरे हो और मेरे सजदे हो,
वास्ते इश्क़ के मेरे कोई जमात न करेगा अब,
मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब।।3।।
ख़्यालों की हयात मरती नहीं है,
उनकी नज़रें मेरे कद से गिरतीं नहीं हैं,
जोड़ेगी मेरे दिल को ऐसी शिफ़ा,
उन्होंने कहा सनम,मिलती नहीं है,
मेरी राहों को कोई आसान न करेगा कोई अब,
मेरे दिल की मरम्मत कोई न करेगा अब।।4।।

गूँचा-फूल, हयात-जिन्दगी,जमात-भीड़, सजदा-प्रणाम
शिफ़ा-भेषज

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’
जय राम जी की

Language: Hindi
Tag: गीत
76 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
खुद पर यकीं
खुद पर यकीं
Satish Srijan
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
लक्ष्मी सिंह
अभिमान
अभिमान
Shutisha Rajput
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
"मैं न चाहता हार बनू मैं
Shubham Pandey (S P)
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
*पत्नियाँ (हिंदी गजल/ गीतिका*
*पत्नियाँ (हिंदी गजल/ गीतिका*
Ravi Prakash
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
■ आज की लघुकथा
■ आज की लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
मेरे स्वयं पर प्रयोग
मेरे स्वयं पर प्रयोग
Ms.Ankit Halke jha
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
Shashi kala vyas
तब घर याद आता है
तब घर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो ही प्रगति करता है
वो ही प्रगति करता है
gurudeenverma198
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
मीठे बोल या मीठा जहर
मीठे बोल या मीठा जहर
विजय कुमार अग्रवाल
सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं......!!
सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"अहसासों का समीकरण"
Dr. Kishan tandon kranti
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
#प्यार...
#प्यार...
Sadhnalmp2001
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा मुसाफिर
Loading...