Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-460💐

मेरे दिल की जन्नत के मालिक हैं वो अभी,
मेरे दिल की रौनक़ के मालिक हैं वो अभी,
कोई नफ़रत तो नहीं है एहतिमाल भी नहीं है,
मेरी दिल की जुस्तजू के मालिक हैं वो अभी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिन्ता और चिता में अन्तर
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🙏माता शैलपुत्री🙏
🙏माता शैलपुत्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
ऐसे थे मेरे पिता
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
अजब कहानी है।
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
पहली भारतीय महिला जासूस सरस्वती राजमणि जी
पहली भारतीय महिला जासूस सरस्वती राजमणि जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
देश के हालात
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
bharat gehlot
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️उम्मीदों की गहरी तड़प
✍️उम्मीदों की गहरी तड़प
'अशांत' शेखर
"लोग क्या सोचेंगे?"
Pravesh Shinde
ढाई आखर प्रेम का
ढाई आखर प्रेम का
डॉ.श्री रमण 'श्रीपद्'
नजर
नजर
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
अनेकतामा एकता
अनेकतामा एकता
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*किस शहर में रहना पड़े (हिंदी गजल/गीतिका)*
*किस शहर में रहना पड़े (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
हरषे धरती बरसे मेघा...
हरषे धरती बरसे मेघा...
Harminder Kaur
आत्म बोध की आत्मा महात्मा
आत्म बोध की आत्मा महात्मा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Annu Gurjar
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
मुझसे  नज़रें  मिलाओगे  क्या ।
मुझसे नज़रें मिलाओगे क्या ।
Shah Alam Hindustani
Loading...