Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 24, 2016 · 1 min read

मेरे दर्दो गम की कहानी न पूछो

122 122 122 122
मेरे दर्दों गम की कहानी न पूछो ।
मुहब्बत की कोई निशानी न पूछो ।।

बहुत आरजूएं दफन मकबरे में ।
कयामत से गुजरी जवानी न पूछो ।।

मुझे याद है वो तरन्नुम तुम्हारा ।
ग़ज़ल महफ़िलों की पुरानी न पूछो ।।

हुई रफ्ता रफ्ता जवां सब अदाएं ।
सितम ढा गयी कब सयानी न पूछो ।।

बयां हो गई इश्क की हर हकीकत ।
समन्दर की लहरों का पानी न पूछो ।।

सलामी नजर से नज़र कर गयी थी ।
वो चिलमन से नज़रें झुकानी न पूछो ।।

मुलाक़ात ऐसी न कुछ कह सके हम ।
रही बात क्या क्या बतानी न पूछो ।।

— नवीन मणि त्रिपाठी

328 Views
You may also like:
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H. Amin
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह दुनिया है कैसी
gurudeenverma198
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
प्यार
Swami Ganganiya
पापा
सेजल गोस्वामी
होली का संदेश
Anamika Singh
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
कब आओगे
dks.lhp
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
और मैं .....
AJAY PRASAD
मित्र
Vijaykumar Gundal
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
पिता
Neha Sharma
Loading...