Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Jul 13, 2022 · 1 min read

मेरे जज्बात

अपनो के सामने हार जाते है
मेरे सारे जज्बात
दिमाग कहता है
जैसा उन्होंने तेरे साथ बुरा किया है
वैसा ही तुम उनको लोटाओ
पर दिल कहता है
वे आखिर तेरे अपने है
उन्हें जरा तुम प्यार से बैठाओ
पुछ लो उनकी खैर खबर तुम
उनकी मजबूरी का तुम
फायदा न उठाओ
उन्होंने जो तेरे साथ किया सो किया
अब तुम उन्होंने नीचा न दिखाओ।

~अनामिका

5 Likes · 4 Comments · 74 Views
You may also like:
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुकून :-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
#दोहे #अवधेश_के_दोहे
Awadhesh Saxena
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
Accept the mistake
Buddha Prakash
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
पैसा
Arjun Chauhan
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
पहचान
Anamika Singh
ऐ वतन!
Anamika Singh
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
तुम्हारा शिखर
Saraswati Bajpai
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
आओ हम याद करे
Anamika Singh
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कहानियां
Alok Saxena
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मालूम था।
Taj Mohammad
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
"फौजियों की अधूरी कहानी"
Lohit Tamta
Loading...