Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-278💐

मेरे जज़्बातों से खेला गया,क्या इसका किस्सा बनेगा?
कौओं के झुण्ड में हंस अपनी पहचान नहीं चाहता है।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
44 Views
You may also like:
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
Dr Nisha nandini Bhartiya
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
।। शक्तिशालिनी ।।
।। शक्तिशालिनी ।।
Jeewan Singh
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
subhash Rahat Barelvi
*वोट डालकर आओ भइया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*वोट डालकर आओ भइया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
Life
Life
C.K. Soni
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समता उसके रूप की, मिले कहीं न अन्य।
समता उसके रूप की, मिले कहीं न अन्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल मे
दिल मे
shabina. Naaz
शायरी 2
शायरी 2
SURYAA
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
★क़त्ल ★
★क़त्ल ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
अगर जीवन में कभी किसी का कंधा बने हो , किसी की बाजू बने हो ,
अगर जीवन में कभी किसी का कंधा बने हो , किसी की बाजू बने हो ,
Seema Verma
हमने सच को क्यों हवा दे दी
हमने सच को क्यों हवा दे दी
Dr. Rajiv
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
मातृ रूप
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
इंतजार करो
इंतजार करो
Buddha Prakash
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
तेरे नाम की
तेरे नाम की
Dr fauzia Naseem shad
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राजनीति अब धुत्त पड़ी है (नवगीत)
राजनीति अब धुत्त पड़ी है (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
Loading...