Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 20, 2016 · 1 min read

मेरे चिराग की धुंधली सी रौशनी क्यूं है

शऊरो फिक्र मे आख़िर ये बेबसी क्यूं है
उठो चिराग़ जलाओ ये तीरगी क्यूं है

तुला है सारा ज़माना सितम ज़रीफी पे
मगर हमारे लबों पर ये खामुशी क्यूं है

कहीं तो मै भी नहीं तेरे नेक बन्दों में
मेरे नसीब मे आख़िर ये मुफ़लिसी क्यूं है

कोई कमी तो नही मेरी परवरिश मे कहीं
मेरे चिराग़ की धुधली सी रौशनी क्यूं है

पहुच गया तो नही मै क़रीब मंज़िल के
मेरे ख़िलाफ ये साज़िश रची गयी क्यूं है

जब एक खून हमारी रगो में है आज़म
हमारे बीच ये नफ़रत ये दुश्मनी क्यूं है

1 Like · 1 Comment · 174 Views
You may also like:
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
किसान
Shriyansh Gupta
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H. Amin
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
बचपन
Anamika Singh
लगा हूँ...
Sandeep Albela
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
Loading...