Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2022 · 2 min read

मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम भाग】

इस सृष्टि में कोई भी वस्तु बिना कीमत के नहीं आती, विकास भी नहीं। अभी कुछ दिन पहले एक पारिवारिक उत्सव में शरीक होने के लिए गाँव गया था। सोचा था शहर की दौड़ धूप वाली जिंदगी से दूर एक शांति भरे माहौल में जा रहा हूँ। सोचा था गाँव के खेतों में हरियाली के दर्शन होंगे। सोचा था सुबह सुबह मुर्गे की बाँग सुनाई देगी, कोयल की कुक और चिड़ियों की चहचहाहट सुनाई पड़ेगी। आम, महुए, अमरूद और कटहल के पेड़ों पर उनके फल दिखाई पड़ेंगे। परंतु अनुभूति इसके ठीक विपरीत हुई। शहरों की प्रगति का असर शायद गाँवों पर पड़ना शुरू हो गया है। इस कविता के माध्यम से मैं अपनी इन्हीं अनुभूतियों को साझा कर रहा हूँ। प्रस्तुत है मेरी कविता “मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर” का प्रथम भाग।
———
मेरे गाँव में होने लगा है,
शामिल थोड़ा शहर,
फ़िज़ा में बढ़ता धुँआ है ,
और थोड़ा सा जहर।
——–
मचा हुआ है सड़कों पे ,
वाहनों का शोर,
बुलडोजरों की गड़गड़ से,
भरी हुई भोर।
——–
अब माटी की सड़कों पे ,
कंक्रीट की नई लहर ,
मेरे गाँव में होने लगा है,
शामिल थोड़ा शहर।
———
मुर्गे के बांग से होती ,
दिन की शुरुआत थी,
तब घर घर में भूसा था ,
भैसों की नाद थी।
——–
अब गाएँ भी बछड़े भी ,
दिखते ना एक प्रहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
तब बैलों के गर्दन में ,
घंटी गीत गाती थी ,
बागों में कोयल तब कैसा ,
कुक सुनाती थी।
——–
अब बगिया में कोयल ना ,
महुआ ना कटहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
पहले सरसों के दाने सब ,
खेतों में छाते थे,
मटर की छीमी पौधों में ,
भर भर कर आते थे।
——–
अब खोया है पत्थरों में ,
मक्का और अरहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
महुआ के दानों की ,
खुशबू की बात क्या,
आमों के मंजर वो ,
झूमते दिन रात क्या।
——–
अब सरसों की कलियों में ,
गायन ना वो लहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
वो पानी में छप छप ,
कर गरई पकड़ना ,
खेतों के जोतनी में,
हेंगी पर चलना।
——–
अब खेतों के रोपनी में ,
मोटर और ट्रेक्टर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
फ़िज़ा में बढ़ता धुँआ है ,
और थोड़ा सा जहर।
मेरे गाँव में होने लगा है,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
अजय अमिताभ सुमन
सर्वाधिकार सुरक्षित

41 Views
You may also like:
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता का दर्द
Nitu Sah
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
तलाश
Dr. Rajeev Jain
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
जवानी
Dr.sima
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
"अशांत" शेखर
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...