Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2022 · 2 min read

मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम भाग】

इस सृष्टि में कोई भी वस्तु बिना कीमत के नहीं आती, विकास भी नहीं। अभी कुछ दिन पहले एक पारिवारिक उत्सव में शरीक होने के लिए गाँव गया था। सोचा था शहर की दौड़ धूप वाली जिंदगी से दूर एक शांति भरे माहौल में जा रहा हूँ। सोचा था गाँव के खेतों में हरियाली के दर्शन होंगे। सोचा था सुबह सुबह मुर्गे की बाँग सुनाई देगी, कोयल की कुक और चिड़ियों की चहचहाहट सुनाई पड़ेगी। आम, महुए, अमरूद और कटहल के पेड़ों पर उनके फल दिखाई पड़ेंगे। परंतु अनुभूति इसके ठीक विपरीत हुई। शहरों की प्रगति का असर शायद गाँवों पर पड़ना शुरू हो गया है। इस कविता के माध्यम से मैं अपनी इन्हीं अनुभूतियों को साझा कर रहा हूँ। प्रस्तुत है मेरी कविता “मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर” का प्रथम भाग।
———
मेरे गाँव में होने लगा है,
शामिल थोड़ा शहर,
फ़िज़ा में बढ़ता धुँआ है ,
और थोड़ा सा जहर।
——–
मचा हुआ है सड़कों पे ,
वाहनों का शोर,
बुलडोजरों की गड़गड़ से,
भरी हुई भोर।
——–
अब माटी की सड़कों पे ,
कंक्रीट की नई लहर ,
मेरे गाँव में होने लगा है,
शामिल थोड़ा शहर।
———
मुर्गे के बांग से होती ,
दिन की शुरुआत थी,
तब घर घर में भूसा था ,
भैसों की नाद थी।
——–
अब गाएँ भी बछड़े भी ,
दिखते ना एक प्रहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
तब बैलों के गर्दन में ,
घंटी गीत गाती थी ,
बागों में कोयल तब कैसा ,
कुक सुनाती थी।
——–
अब बगिया में कोयल ना ,
महुआ ना कटहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
पहले सरसों के दाने सब ,
खेतों में छाते थे,
मटर की छीमी पौधों में ,
भर भर कर आते थे।
——–
अब खोया है पत्थरों में ,
मक्का और अरहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
महुआ के दानों की ,
खुशबू की बात क्या,
आमों के मंजर वो ,
झूमते दिन रात क्या।
——–
अब सरसों की कलियों में ,
गायन ना वो लहर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
वो पानी में छप छप ,
कर गरई पकड़ना ,
खेतों के जोतनी में,
हेंगी पर चलना।
——–
अब खेतों के रोपनी में ,
मोटर और ट्रेक्टर,
मेरे गाँव में होने लगा है ,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
फ़िज़ा में बढ़ता धुँआ है ,
और थोड़ा सा जहर।
मेरे गाँव में होने लगा है,
शामिल थोड़ा शहर।
——–
अजय अमिताभ सुमन
सर्वाधिकार सुरक्षित

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 136 Views
You may also like:
जीवन की सरलता
Dr fauzia Naseem shad
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" किन्नर के मन की बात “
Dr Meenu Poonia
Writing Challenge- प्रेम (Love)
Sahityapedia
सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती
Seema 'Tu hai na'
शख्सियत - मॉं भारती की सेवा के लिए समर्पित योद्धा...
Deepak Kumar Tyagi
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
ज़िन्दगी मैं चाल तेरी अब समझती जा रही हूँ
Dr Archana Gupta
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
उसे चाहना
Nitu Sah
इश्क़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समुद्री जहाज
Buddha Prakash
भाग्य हीन का सहारा कौन ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
रुक्सत रुक्सत बदल गयी तू
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कहना मत राज की बातें
gurudeenverma198
चलते रहना ही बेहतर है, सुख दुख संग अकेली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रूप के जादूगरी
Shekhar Chandra Mitra
मुखर तुम्हारा मौन (गीत)
Ravi Prakash
मुस्तहकमुल-'अहद
Shyam Sundar Subramanian
मैं पुकारती रही
Anamika Singh
-- बेशर्मी बढ़ी --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
माँ सिद्धिदात्री
Vandana Namdev
मधुशाला अभी बाकी है ।।
Prakash juyal 'मुकेश'
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खयाल बन के।
Taj Mohammad
चार पैसे भी नही..
Vijay kumar Pandey
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों...
Manisha Manjari
आई रे दिवाली रे
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
गुरु वंदना
सोनी सिंह
कौन बोलेगा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
Loading...