मेरे गाँव का अश्वमेध!

शीर्षक – मेरे गाँव का अश्वमेध

विधा – व्यंग्य काव्य

संक्षिप्त परिचय- ज्ञानीचोर
शोधार्थी व कवि साहित्यकार
मु.पो.रघुनाथगढ़, सीकर राजस्थान 332027
मो. 9001321438

गाँव सें इंसान गायब, मर गई है आत्मा
बस! आबाद हैं गाँव पुराने-नये अहेरी से
दो दल अहेरी,एक जवान एक बूढ़ा
नोचते निरीह प्राणियों को भरी दोपहर
पुराना अहेरी दल आदमखोर
नया अहेरी दल हिंसक पर बिखरा हुआ
इंसान शहर चले गये
पंछी गान गाते स्वागत करते दल का
कुछ पंछी चुप है अहेरी जाल से निकल।

आज मरी पड़ी संवेदना के सौदागर
खूब खिलखिला नाड़े की गाँठ खोल
तुच्छ स्वार्थसिद्धि हेतु अश्वमेध …..!
घोड़े की बजाय बकरी को खोलते
साम्राज्य विस्तार हेतु,पर बकरी ….
पर आँख किसी कसाई की नहीं !
खूँटे की आँखें फोड़ अहेरी डाल काजल।

मरी लाश के जिंदा सौदागर टपके आँसू
मायूस शमशान तक,बैठ कुछ देर
भोली सूरत गहन चितंन, भीड़भाड़
फालतू लोग मोहित,भाव समर्पित स्वाहा
दूर बैठ गौर करते,मेरे वोट कहाँ
बीजेपी कहाँ,काँग्रेस वाले …..।

इस तरह संवेदना देने नहीं
वोट हथियाने जाते अहेरी
अहेरी संग पुलिस का खेला
जाल समेटे हर वक्त जेब में
खोल देते दाना डाल,पंछी बेचारे….!

ऐसे! मेरे गाँव में अब इंसान गायब
बीजेपी-काँग्रेस का फैलाव-फुलाव
शेष है अब दो जाति,दो समाज
एक बीजेपी एक काँग्रेस
तीसरे को तीतर-बीतर करेंगे
रोज अश्वमेध में नरबलि
अब घोड़ा नहीं, बकरी नहीं
साम्राज्य विस्तार हेतु खोलेंगे
विरोधी-समर्थक के घर की इज्जत।

1 Like · 30 Views
You may also like:
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
याद आते हैं।
Taj Mohammad
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
सच
अंजनीत निज्जर
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हे गुरू।
Anamika Singh
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...