Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 19, 2016 · 1 min read

मेरे ख्वाबो में ना आया करो(गज़ल)

मेरे ख्वाबो में ना आया करो,
रातो को हमे ना सताया करो।

मानता नही दिल तुम्हारे दीदार के बिना,
हर रोज मेरी गली से गुजर कर जाया करो।

गिरा कर जुल्फों चलते हो इतरा कर,
यूँ हुसन का कहर हम पर ना ढहाया करो।

सुरमा बनाता तुम्हारी आँखो को कातिल,
दूर से मेरे दिल पर निशाना ना लगाया करो।

अदाएं बेजुबाँ सी बोल देती सब कुछ,
यूँ बलखा कर दिल में आग ना लगाया करो।

आ जाते आजकल आँसू तन्हाई में,
हमारे आँसुओ को जूठा ना बताया करो।

करता “मंदीप” सच्ची चाहत तुमसे,
मेरी चाहत को जूठा ना बताया करो।

मंदीपसाई

163 Views
You may also like:
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
बंदर भैया
Buddha Prakash
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...