Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

मेरे कलाधर

श्यामल शस्य भू नीला अम्बर , शोभित मध्य मेरे कलाधर
शास्वत सत्य डारि बाघम्बर, गुंजित बम-बम और हर-हर स्वर
शोभित मध्य मेरे कलाधर …………….

अजानुबाहु आशीष को देते, मन निर्मल पावन कर देते
समस्त व्याकुलता हर लेते, मंद मुस्कान धरे अधर पर
शोभित मध्य मेरे कलाधर …………….

आये कोई भी असुर,सुर, मुनि जन, बन जाते भोले औ साधारण
न जाने क्या जादू कर देते तब , गुम हो जाये देखे रूप मनहोर
शोभित मध्य मेरे कलाधर …………….

हे मम स्वामी अन्तर्यामी, प्रायः मनुष्य करता नादानी
सर्वग्य नाथ तुम सर्वव्यापी, किया दूर तम ज्ञान को देकर
शोभित मध्य मेरे कलाधर …………….

विनती मेरी श्री चरणों में , रह पाऊं सदा तेरी ही शरण में
भूल सकूँ न तुम्हें भूलकर, जीऊँ सदा तेरी ही बनकर
शोभित मध्य मेरे कलाधर …………….
…………………………………………………………………………………..

9 Likes · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
Janab hm log middle class log hai,
Janab hm log middle class log hai,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Sakshi Tripathi
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
23/41.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/41.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
Rajesh vyas
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
माना   कि  बल   बहुत  है
माना कि बल बहुत है
Paras Nath Jha
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
पतझड़ और हम जीवन होता हैं।
Neeraj Agarwal
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ऐसा मंजर होगा"
पंकज कुमार कर्ण
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
Dr. Man Mohan Krishna
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
Shweta Soni
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
Ravi Prakash
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
ज़िंदगी कब उदास करती है
ज़िंदगी कब उदास करती है
Dr fauzia Naseem shad
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
हम लिखते हैं
हम लिखते हैं
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
Loading...