Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-293💐

मेरे ऐसे ही पयामों का मसनद लगाए रखो,
मेरे ख़्यालों को अपने दिल में छिपाए रखो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गंगा
गंगा
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
माँ का निश्छल प्यार
माँ का निश्छल प्यार
Soni Gupta
*सबके लिए सबके हृदय में, प्रेम का शुभ गान दो【मुक्तक 】*
*सबके लिए सबके हृदय में, प्रेम का शुभ गान दो【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
सूर्यकांत द्विवेदी
ज़िन्दगी की गोद में
ज़िन्दगी की गोद में
Rashmi Sanjay
कुछ अलग लिखते हैं। ।।।
कुछ अलग लिखते हैं। ।।।
Tarang Shukla
थोड़ी होश
थोड़ी होश
Dr. Rajiv
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
दिल्ली चलअ
दिल्ली चलअ
Shekhar Chandra Mitra
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
■ सीधी बात....
■ सीधी बात....
*Author प्रणय प्रभात*
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
gurudeenverma198
किसान का दर्द
किसान का दर्द
तरुण सिंह पवार
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
अव्यक्त प्रेम
अव्यक्त प्रेम
Surinder blackpen
एक थी कोयल
एक थी कोयल
Satish Srijan
सुभाष चंद्र बोस जयंती
सुभाष चंद्र बोस जयंती
Ram Krishan Rastogi
जीवन
जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi
कभी कभी ये पलकें भी
कभी कभी ये पलकें भी
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
Anis Shah
💐💐उनके दिल में...................💐💐
💐💐उनके दिल में...................💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होली औऱ ससुराल
होली औऱ ससुराल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...