Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-464💐

मेरे इश्क़ का शोला उनकी पेशी करेगा,
मेरा देखना उनको बहुत हसीन करेगा,
ये चलता रहेगा जब तक न वो आएँगे,
आख़िरी साँस तक ‘अभिषेक’ उनका इंतिज़ार करेगा।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
5 Views
You may also like:
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इन्तेहा हो गयी
इन्तेहा हो गयी
shabina. Naaz
औकात
औकात
साहित्य गौरव
औरतों की तालीम
औरतों की तालीम
Shekhar Chandra Mitra
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
करो कुछ मेहरबानी यूँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसान पर दोहे
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वायु वीर
वायु वीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसे भुला पायेंगे
कैसे भुला पायेंगे
Surinder blackpen
■ सीख लो
■ सीख लो
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-471💐
💐प्रेम कौतुक-471💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां
मां
KAPOOR IQABAL
~रेत की आत्मकथा ~
~रेत की आत्मकथा ~
Vijay kannauje
आईना सच अगर दिखाता है
आईना सच अगर दिखाता है
Dr fauzia Naseem shad
बारिश ए मोहब्बत।
बारिश ए मोहब्बत।
Taj Mohammad
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अनवरत का सच
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
बाबा फ़क़ीर
बाबा फ़क़ीर
Buddha Prakash
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सी डी इस विपिन रावत
सी डी इस विपिन रावत
Satish Srijan
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल हैं सौंदर्य मनुज का, सबके मन को भाते हैं।
बाल हैं सौंदर्य मनुज का, सबके मन को भाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
Ranjana Verma
खुशी और गम
खुशी और गम
himanshu yadav
बेङ्ग आ टिटही (मैथिली लघुकथा)
बेङ्ग आ टिटही (मैथिली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
किंकर्तव्यविमुढ़
किंकर्तव्यविमुढ़
पूनम झा 'प्रथमा'
*अध्यात्म ज्योति* : वर्ष 53 अंक 1, जनवरी-जून 2020
*अध्यात्म ज्योति* : वर्ष 53 अंक 1, जनवरी-जून 2020
Ravi Prakash
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...