Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-212💐

मेरी हर इक बात पर सियासत सी की गई,
हर बात जानकर क्यों शिकायत सी की गई।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
लेख : प्रेमचंद का यथार्थ मेरी दृष्टि में
लेख : प्रेमचंद का यथार्थ मेरी दृष्टि में
Sushila Joshi
बे अदब कहोगे।
बे अदब कहोगे।
Taj Mohammad
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
Bramhastra sahityapedia
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ब है साहब!
ग़ज़ब है साहब!
*Author प्रणय प्रभात*
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*चाँद : कुछ शेर*
*चाँद : कुछ शेर*
Ravi Prakash
✍️राजू ये कैसी अदाकारी..?
✍️राजू ये कैसी अदाकारी..?
'अशांत' शेखर
कहाँ गया रोजगार...?
कहाँ गया रोजगार...?
मनोज कर्ण
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उलझनों से तप्त राहें, हैं पहेली सी बनी अब।
उलझनों से तप्त राहें, हैं पहेली सी बनी अब।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हिन्दी दोहा -भेद
हिन्दी दोहा -भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सिंदूरी इस भोर ने, किरदार नया फ़िर मिला दिया ।
सिंदूरी इस भोर ने, किरदार नया फ़िर मिला दिया ।
Manisha Manjari
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
#रिश्ते फूलों जैसे
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
दिव्य दृष्टि बाधित
दिव्य दृष्टि बाधित
Neeraj Agarwal
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
Rohit yadav
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
आँखे
आँखे
Anamika Singh
शीत ऋतु
शीत ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फकीरे
फकीरे
Shiva Awasthi
Loading...