#20 Trending Author
May 13, 2022 · 1 min read

मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी

मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
तेरे संग संग मेरी चाहत चली…!!
साथ हो तेरा.. तो…
राहे भी कदम को चूमें… ओर
हो हसरत चाहतो की पुरी..!!
मेरी मंजिल तुम पे है रुकी
तभी तो… दिल की तमन्ना में हैं
कई कलीयां खिली..!!
है बस यहाँ ही करना है बसेरा
क्योंकि…. चाहतो की चाहत…
करे यहाँ बसेरा…!!!!

1 Like · 25 Views
You may also like:
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H.
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
चिड़ियाँ
Anamika Singh
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दर्द।
Taj Mohammad
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
**नसीब**
Dr. Alpa H.
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H.
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
Loading...