Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 28, 2022 · 1 min read

मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो

पता नही तुम याद क्यो आते हो,
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो।
सोती नही हूं रात में तब तक मैं,
जब तक मेरे पास नही आते हो।।

जब जब फूलो को सूंघा मैने,
तुम्हारी ही खुश्बू उनमें आई।
उनको गजरे में लगाया मैने,
बस तुम्हारी याद मुझे आई।।

जब जब कभी बादल ने बूंदे,
मेरे तन और मन में बरसाई।
मिली जो तन मन को ठंडक,
बस तुम्हारी याद मुझे आई।।

जब जब पुरवा हवा है चली,
मेरे तन को वह छूकर चली।
दिया था संदेशा उसने मुझे,
सुनकर तुम्हारी ही याद आई।।

जब जब तन्हा मै कभी होती,
तुम्हारी यादें मुझे है घेर लेती।
खोकर तुम्हारी यादों में मैने,
तुम्हारी ही अनुभूति मैने पाई।।

पता नही ये सब कुछ क्यों होता,
तुम्हारा चेहरा सामने क्यो होता।
जानकर भी अनजान मै क्यू हूं,
शायद ऐसे में ये सब कुछ होता।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

3 Likes · 4 Comments · 234 Views
You may also like:
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
अरदास
Buddha Prakash
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
बहुमत
मनोज कर्ण
Loading...