Jun 22, 2019 · 1 min read

मेरी मां

उठ जाती है रोज सवेरे भोर से पहले,
समेट कर खुद की ख्वाहिशें घर के काम के साथ,
चल देती है दो जून की रोटी के लिए ,
बिना जाने मंज़िल की ओर।
मिटाने क्षुब्धा परिवार की,
अपनी आंतो अंतड़ियों को सिकोड़ ,
अरमानों को मरोड़ न्योछावर कर देती ,
निशब्द होकर सह जाती तिरस्कार,
शाम को हारी थकी आती ,
मुस्कराकर समेटती मेरे सुनहरे सपनों की भोर।
वो मांझती है बर्तन,,धोती है कपड़े।
फर्श को कसकर रगड़ती है,
और देखती है परछाइयों में चेहरे की झुर्रियों को,
आंखों के काले घेरो को और फिर उन्नींदी आंखों में चमकते ख्वाब को।
बर्तनों की कालिख के साथ हताती जाती है मेरे भविष्य की कालिमा,
कपड़ों की चमक सा चमकाती है मेरा भविष्य।
अपनी दवाई की पिछली भूली बिसरी खुराक से चला लेती तत्काल काम ।
और बेवजह उठा लाई भूख , खून बढ़ाने के सीरप तमाम।
एक दिन में अनगिनत बार मेरा चेहरा देख लेती हैं,
बिना कहे दिल का हाल जान लेती है,
हर बार कमजोर लगने का राग अलाप के अनाब सनाब कुछ भी खिला देती है ।
रेखा मां की यही रीत तो उसे साधारण स्त्री से मा बना देती है।
वह सरे गमों की पोटली बनाकर चल देती है अपनी संतान से पहले।

1 Like · 170 Views
You may also like:
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
अभिलाषा
Anamika Singh
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क
goutam shaw
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
Loading...