Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)

कभी वो ‘व्रत’ करती है, तो कभी ‘अरदास’ गाती है।
मेरे खातिर न जाने वो, कितने तिकड़म भिड़ाती है।।
वो रह ‘उपवास’ निर्जला, ‘जीवित्पुत्रिका’ निभाती है।
मेरी भोली “माँ” मुझे अब भी, काला टीका लगाती है।।

वो उठती चौक कर रातों में, जो करवट बदलता था।
वो सुन लेती मेरी बातें, मैं जब बोला भी न करता था।।
मैं अब जो बोल नही पाता, वो वो भी जान जाती है।
मेरी भोली “माँ” मुझे अब भी, काला टीका लगाती है।।

कुलांचे मारता दिनभर, था “माँ” बेखौफ आंगन में।
रसोई में भी रहकर थी, तू करती रक्षा अँखियन से।।
मगर जब गिर पड़ता था, तो छण में दौड़ी आती है।।
मेरी भोली “माँ” मुझे अब भी, काला टीका लगाती है।।

सुलभ मन जान न पाता, निर्विघ्न “माँ” तेरी ममता को।
करे क्यो रार मुझ खातिर, ‘चुनौती’ दे हर क्षमता को।।
तेरी समता के सामने क्यों, ‘सृष्टि’ फ़ीका बुझाती है।
मेरी भोली “माँ” मुझे अब भी, काला टीका लगाती है।।

सरस मन और सरल हृदय, तेरा ‘अवतार’ अनूठा है।
तेरे बिन ‘विश्व’ क्या ‘ब्रह्मांड’ का, रचना भी झूठा है।।
तेरा तो रूप “माँ” ‘देवतुल्य’, जगत गुण जिसका गाती है।
मेरी भोली “माँ” मुझे अब भी, काला टीका लगाती है।।

©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित ०१/११/२०१८)
ग्राम व पोस्ट:- रेवतीपुर,
ज़िला:- गाज़ीपुर,

78 Likes · 274 Comments · 1831 Views
You may also like:
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पहचान
Anamika Singh
✍️तंगदिली✍️
"अशांत" शेखर
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दरिया
Anamika Singh
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ
आकाश महेशपुरी
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
Loading...