Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 18, 2022 · 2 min read

मेरी बेटी

मेरी बिटिया रानी।
मेरी गुड़िया रानी।
न जाने कब हो गई
वह इतनी सयानी।

बात -बात पर मुझे अब
वह समझाने लगी है।
मेरे देर से खाने पर वह
मुझे डाँट लगाने लगी है।

अब मुझे ही जीवन का
वह पाठ पढ़ाने लगी है।
अब जीवन का सीख मुझे
वह सिखलाने लगी है।

मेरे हर कामों में भी वह
हाथ बंटाने लगी है।
रिश्तो की परिभाषा भी
वह मुझे समझाने लगी है।

मेरे सपनों को पूरा करने में
वह दिन -रात लगाने लगी है।
मेरे आँखों में आँसू देखकर
वह चिन्ता जताने लगी है।

मेरे सेहत का ख्याल भी
अब वह रखने लगी है।
समय -समय पर दवा भी
अब मुझे देने लगी है।

मेरी हर बात को अब
वह ध्यान से सुनने लगी है।
सही गलत के फैसलों पर
अब वह अड़ने लगी है।

अच्छी बात यह है कि
वह हार नहीं मानती है।
अपनी मुकाम को पाने के लिए
वह जिद पर अड़ जाती है।

उसका यह जिद अच्छा है
जो मंजिल तक ले जाती है ।
कम से कम वह रोकर
घर पर बैठ तो नही जाती है।

वह अपने सपनों के लिए
जी जान लगा देती है।
लड़ना पड़े सपनों के लिए तो
सबसे लड़ जाती है।

उसका यह आत्मविश्वास देखकर
मुझे अच्छा लगता है।
उसका अपने लिए आवाज उठाना
मुझे अच्छा लगता है।

अपने से सभी बड़ों को वह
बहुत सम्मान करने लगी है।
छोटों के साथ भी वह
मिल-जुल कर रहने लगी है।

मेरे कुछ कहने पर वह
हँसकर बात उड़ाने लगी है।
तेरी साया हूँ कहकर
मुझे वह चिढाने लगी है।

~अनामिका

4 Likes · 8 Comments · 113 Views
You may also like:
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
क़ौल ( प्रण )
Shyam Sundar Subramanian
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
✍️निशान✍️
"अशांत" शेखर
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
दर बदर।
Taj Mohammad
💔💔...broken
Palak Shreya
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मालूम था।
Taj Mohammad
क्रांतिवीर हेडगेवार*
Ravi Prakash
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
**अनमोल मोती**
Dr.Alpa Amin
Loading...