Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 2 min read

मेरी बेटी मेरा अभिमान

मेरी बेटी मेरा अभिमान

22 अप्रैल 2023 की दोपहर का समय था। मैं ऑफिस में रोजमर्रा की फाइलें निपटा रहा था। तभी फोन की घंटी बजी। देखा श्रीमती जी का फोन है। सामने दीवार पर टंगे घड़ी की ओर देखा। ढाई बज रहे थे। मैंने फोन उठाया, “हलो।”
“हलो पापा…।” उधर से मेरी छह साल की बेटी परिधि, जिसे हम प्यार से परी संबोधित करते हैं, बोली।
“अरे परी बेटा…, आप हो ? आप आ गईं स्कूल से ?”
“हां पापा। स्कूल से तो कब की आ गई मैं। मैंने खाना भी खा लिया है अब तक।”
“गुड।”
“आप अभी क्या कर रहे हैं ?”
“काम कर रहा हूं बेटा।”
“आज आपके टिफिन में क्या था ?”
“देखा नहीं बेटा अब तक ?”
“मतलब अभी तक आपने टिफिन फिनिश नहीं किया है ?”
“नहीं बेटा, थोड़ी देर में कर लूंगा।”
“कब तक कर लेंगे पापा ?”
“बस बेटा, ये दो-तीन जरूरी फाइलें हैं। इन्हें निपटा कर टिफिन फिनिश कर लूंगा।”
“ये गुड मैनर नहीं है पापा। टिफिन टाइम पर फिनिश कर लेना चाहिए। आप अक्सर भूल जाते हैं और फिर शाम को वापस घर ले आते हैं।”
“हूं… अच्छा बेटा, आप ये बताओ कि अभी फोन क्यों किया है ?”
“बस पापा, आपको ये पूछने के लिए ही फोन किया था कि आज आपने अपना टिफिन फिनिश किया है कि नहीं ?”
“अच्छा ?”
“हां, और नहीं तो क्या ? आपके ऑफिस में तो कोई मैडम या सर चेक करते हैं नहीं कि आप लोग टिफिन फिनिश किए हैं या नहीं ?”
“हां, ये बात तो है बेटा। मैं आज पक्का फिनिश कर लूंगा। प्रॉमिस।”
“कब तक फिनिश कर लेंगे पापा ?”
“बस बेटा 20-25 मिनट में।”
“ठीक है फिर। मैं ठीक तीन बजे आपको विडियो काल करके चेक करूंगी कि आपने लंच किया कि नहीं।”
“अच्छा… ?”
“हां… और नहीं तो क्या ? आप फिर से भूल गए तो ?”
“क्या अब तुम रोज ऐसे चेक करती रहोगी ?”
“रोज नहीं पापा। अभी 3-4 दिन रेगुलर चेक करूंगी, फिर तो आपकी आदत पड़ जाएगी न। टाइम पर टिफिन फिनिश करने की। हां अगर आपको लंच में कोई चीज पसंद नहीं हो तो मुझे बता दिया कीजिए। मम्मी को समझा दूंगी। थोड़ा सा होमवर्क है। उसे निपटा कर ठीक तीन बजे आपको विडियो काल करती हूं। अच्छा बाय”
उसके द्वारा फोन काटने के बाद मैं सोचने लगा कि बेटी यूं ही नहीं होती दिल के करीब।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़
9827914888

Language: Hindi
1 Like · 231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Pradeep Kumar Sharma
View all
You may also like:
महिलाओं वाली खुशी
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
Satish Srijan
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
पिता का प्रेम
पिता का प्रेम
Seema gupta,Alwar
कितने उल्टे लोग हैं, कितनी उल्टी सोच ।
कितने उल्टे लोग हैं, कितनी उल्टी सोच ।
Arvind trivedi
हँसते हैं वो तुम्हें देखकर!
हँसते हैं वो तुम्हें देखकर!
Shiva Awasthi
औरत औकात
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
✍️ 'कामयाबी' के लिए...
✍️ 'कामयाबी' के लिए...
'अशांत' शेखर
दो कदम साथ चलो
दो कदम साथ चलो
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्रांतिवीर नारायण सिंह
क्रांतिवीर नारायण सिंह
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बरसात।
बरसात।
Anil Mishra Prahari
🙅अजब-ग़ज़ब🙅
🙅अजब-ग़ज़ब🙅
*Author प्रणय प्रभात*
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐अज्ञात के प्रति-23💐
💐अज्ञात के प्रति-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
“ मोदी जी के पहले भारत ”
“ मोदी जी के पहले भारत ”
DrLakshman Jha Parimal
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
गरजता है, बरसता है, तड़पता है, फिर रोता है
सूर्यकांत द्विवेदी
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...