Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 16, 2021 · 2 min read

मेरी परी

मेरी प्यारी परी
सच मे तुम परी ही थी
जब तुम्हारी आने की दस्तक हुई
हमसे ज्यादा खुश कोई नही था
तुम्हारे आने से पहले झूला ले लिया था हमने
और कुछ खिलोने भी

मेरी प्यारी परी
सच मे तुम परी ही थी
जब तुम्हारी आवाज कानो पर पड़ी
तब तुम्हारे रोने पर हम हसे थे
तुम्हारा पहला खिलौना आज भी हमारे पास है

मेरी प्यारी परी
सच मे तुम परी ही थी
कितने घुमे थे हम तुम्हारे साथ
कितनी मस्ती करते थे हम मिलकर
मेरी साथ तुम पढती भी थी
तुम्हे मे अपने साथ सिखाती भी थी

मेरी प्यारी परी
सच मे तुम परी ही थी
तुम इतने कम वक़्त के लिए साथ हो
हम नही समझ पाये ये
नाना नानी दादा दादी का प्यार नही दे पाये तुम्हे

मेरी परी तुम हमारी ज़िंदगी मे रोज डे के दिन आई
और गई भी उस दिन जब
सारा शहर काफिला पीछे था
शहीद अमित ठेगे को जहाँ सलामी दे रहे थे
तब हमें लग रहा था
सब हमारे परी को याद कर रहे है

तुम्हारी जाने के बाद हम तो जीना ही भूल गये थे
कितने खत लिखे मेने तुम्हे बापिस आने के लिए
पर मेरी परी ज्यादा ही गुस्सा थी मुझसे
दिन रात आंसू मे ही थे हमारे
खबर आई की तुम आ रही हो

तुम आई ही नही अपने भाई को पहुचा दिय़ा
शायद इसलिये की तुम जानती थी
मुझे पहला बच्चा लडका चाहिए था
इसी बात की सजा दी थी ना मुझे

सब कहते थे तुम लोगो की किस्मत मे लड़की नही हैं
जो अगर होती तो जाती ही नही
पर मुझे भरोसा था की तुम आओगी
साल गुजरते गये लगा अब तुम आओगी
पर सबने मना किया की अभी नही
मेरा दिल नही माना पर

इस बार तुम 13 की जगह 24 फरवरी को आई
खोकर पाना किसको कहते है समझा गई

तुम्हारा बहुत बहुत धन्यवाद हमारे ज़िंदगी मे आने के लिए
मेरी लिए तो तुम यही हो ….मेरी परी

1 Like · 188 Views
You may also like:
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
जरी ही...!
"अशांत" शेखर
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
सच तो यह है
gurudeenverma198
शब्दों से परे
Mahendra Rai
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
वो
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
माटी का है मनुष्य
"अशांत" शेखर
✍️हम भारतवासी✍️
"अशांत" शेखर
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
** यकीन **
Dr. Alpa H. Amin
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
हमारी धरती
Anamika Singh
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️स्त्रोत✍️
"अशांत" शेखर
माहौल
AMRESH KUMAR VERMA
झूला सजा दो
Buddha Prakash
Loading...