Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2022 · 1 min read

मेरी उम्मीद

हो जाता हूं दुनिया से विरक्त मैं
लगता है कभी, कुछ भी नहीं है
फिर तुम्हें देखता हूं तो लगता है
मेरे पास तो कोई कमी ही नहीं है

होती है घड़ी मुश्किल जब भी
सोचता हूं क्या करूंगा अब मैं
फिर तेरी निश्छल हसीं सामने आती है
जिसके लिए कुछ भी कर सकता हूं मैं

लोग जाने कहां कहां ढूंढते हैं
मुझे तो तुम में कान्हा नज़र आते हैं
जिसकी आस में जी रहे हैं हम सभी
देखकर तुम्हें ही हम वो सुकून पाते हैं

कुछ देर खेलकर साथ तुम्हारे
बच्चा बन जाता हूं मैं भी
देखकर तुम्हारी नटखट शरारतें
फिर बचपन जी लेता हूं मैं भी

काश ये समय रुक जाए अब
तू रहे ऐसे ही निडर और निश्छल
तू साथ है तो जीत जायेंगे हम
चाहे स्थिति हो कितनी भी विकल

तुमको देखना चाहता हूं मैं अब
जल्दी घर आ जाओ तुम खेलकर
बहुत देर हो गई, अंधेरा होने को है
गया तो था तू थोड़ी देर बोलकर।

Language: Hindi
9 Likes · 3 Comments · 733 Views
You may also like:
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
बहादुर फनकार
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
सूरज काका
Dr Archana Gupta
कुनमुनी नींदे!!
Dr. Nisha Mathur
*जातियों में हम बॅंटे हैं, एक कब हो पाऍंगे (हिंदी...
Ravi Prakash
आस और विश्वास।
लक्ष्मी सिंह
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
गुरु तेग बहादुर जी का वलिदान युगों तक प्रेरणा देगा।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
बे अदब कहोगे।
Taj Mohammad
कलाकार की कला
Skanda Joshi
✍️✍️एहसास✍️✍️
'अशांत' शेखर
शराब सहारा
Anurag pandey
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
शिव दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने...
Pravesh Shinde
not a cup of my tea
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"लेखक की मानसिकता "
DrLakshman Jha Parimal
रावण के मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
साहस
Shyam Sundar Subramanian
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
Loading...