Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मेरा हो हर अरमान तुम्हीं !

मेरा हो हर अरमान तुम्हीं !
तुम्हीं हो दुनियां तुम्हीं हो ज़न्नत,
और मेरी तक़दीर तुम्हीं,
तुम्हीं हो जां और तुम्हीं ज़िंदगी,
और मेरी जागीर तुम्हीं
तुम्हीं हो दिल में, तुम्हीं हो मन में,
और मेरे ख्वावो में तुम्हीं
जब है सोचा तब है पाया,
मेरा हो हर अरमान तुम्हीं!

146 Views
You may also like:
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
तीन किताबें
Buddha Prakash
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
कर्म का मर्म
Pooja Singh
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
Loading...