Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 1 min read

मेरा सादा सा दिल है और सादी सी ही फ़ित्रत है

जला है जी मेरा और उसपे मुझसे ही शिक़ायत है
न कहना अब के ग़ाफ़िल यूँ ही तो होती मुहब्बत है

मुझे तो होश आ जाए कोई पानी छिड़क दे बस
तेरा होगा भला क्या तेरी तो रिन्दों की सुह्बत है

हुई है राह इक तो अब मुहब्बत हो ही जाएगी
अगर इंसानियत की जी को थोड़ी सी भी आदत है

नहीं मिलता कभी साहिल सफ़ीना-ए-मुहब्बत को
ख़ुदारा हुस्न के सागर में क्यूँ होती ये क़िल्लत है

कभी रंगीन दुनिया के मुझे सपने नहीं आते
मेरा सादा सा दिल है और सादी सी ही फ़ित्रत है

तू पैताने रक़ीबों के हूमेशा है नज़र आता
तेरी इस हुस्न की महफ़िल में क्या इतनी ही क़ीमत है

-‘ग़ाफ़िल’

316 Views
You may also like:
अब हार भी हारेगा।
Chaurasia Kundan
शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल ,...
Subhash Singhai
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
शुरुआत की देर है बस
Buddha Prakash
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
शेर
Rajiv Vishal
मेरे लबों की दुआ
Dr fauzia Naseem shad
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई दीपक ऐंसा भी हो / (मुक्तक)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*ऐसे भला कोई माँगे मानता है ! (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
पत्ते
Saraswati Bajpai
कर्म
Anamika Singh
मारे ऊँची धाँक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेहनत का फल ।
Nishant prakhar
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
✍️तजुर्बों से अधूरे रह जाते
'अशांत' शेखर
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य!
Shekhar Chandra Mitra
not a cup of my tea
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कैसे तुम बिन
Dr. Nisha Mathur
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
“दिव्य दर्शन देवभूमि का” ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
हो पाए अगर मुमकिन
Shivkumar Bilagrami
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
आस्तीक भाग-चार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...