मेरा सादा सा दिल है और सादी सी ही फ़ित्रत है

जला है जी मेरा और उसपे मुझसे ही शिक़ायत है
न कहना अब के ग़ाफ़िल यूँ ही तो होती मुहब्बत है

मुझे तो होश आ जाए कोई पानी छिड़क दे बस
तेरा होगा भला क्या तेरी तो रिन्दों की सुह्बत है

हुई है राह इक तो अब मुहब्बत हो ही जाएगी
अगर इंसानियत की जी को थोड़ी सी भी आदत है

नहीं मिलता कभी साहिल सफ़ीना-ए-मुहब्बत को
ख़ुदारा हुस्न के सागर में क्यूँ होती ये क़िल्लत है

कभी रंगीन दुनिया के मुझे सपने नहीं आते
मेरा सादा सा दिल है और सादी सी ही फ़ित्रत है

तू पैताने रक़ीबों के हूमेशा है नज़र आता
तेरी इस हुस्न की महफ़िल में क्या इतनी ही क़ीमत है

-‘ग़ाफ़िल’

147 Views
You may also like:
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
पिता
Ram Krishan Rastogi
लाल टोपी
मनोज कर्ण
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तलाश
Dr. Rajeev Jain
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
बाबू जी
Anoop Sonsi
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
राम राज्य
Shriyansh Gupta
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
सूरज काका
Dr Archana Gupta
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H.
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
**किताब**
Dr. Alpa H.
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H.
Loading...