Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-146💐

मेरा समाना तुम्हें हर जग़ह पीड़ित करेगा।फिर कह रहा हूँ।तुम्हें कहीं शान्ति मिलने वाली नहीं है।तुमने दुःख का चुनाव किया है फिर सुख खोज रहे हो।
©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रास्ता
रास्ता
Anamika Singh
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चलना हमें होगा
चलना हमें होगा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
श्याम सिंह बिष्ट
अहीर छंद (अभीर छंद)
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
मेनका की मी टू
मेनका की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे वश में नहीं है, तुम्हारी सजा मुकर्रर करना ।
मेरे वश में नहीं है, तुम्हारी सजा मुकर्रर करना ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
करन ''केसरा''
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
दिल की तमन्ना
दिल की तमन्ना
अनूप अम्बर
✍️दरिया और समंदर✍️
✍️दरिया और समंदर✍️
'अशांत' शेखर
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
धार्मिक उन्माद
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
वो पल मेरे वापस लौटा दो मुझको
वो पल मेरे वापस लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
एक लम्हा भी नहीं
एक लम्हा भी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सलामत् रहे ....
सलामत् रहे ....
shabina. Naaz
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
मात पिता की सेवा ही परम धर्म है।
मात पिता की सेवा ही परम धर्म है।
Taj Mohammad
बाबू जी
बाबू जी
Anoop 'Samar'
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
🌹लाफ्टर थेरेपी!हे हे हे हे यू लाफ्टर थेरेपी🌹
🌹लाफ्टर थेरेपी!हे हे हे हे यू लाफ्टर थेरेपी🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
Dr MusafiR BaithA
Loading...