Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 23, 2017 · 1 min read

मेरा सदग्रंथ कहे ये बारंबार

ये अश्क होते मोती ,
ये नयन होता सागर ।
ये झुल्फे होती बादल ,
ये सिर होती बारिश ।
ये गाल होते गुलाब ,
ये हुस्न होता खुशबु ।
मगर ये होना सका ,
लफ्ज़ो की खामोशी ने ,
हजारों मोहब्बत की कहानी ,
बेबस कर दी ।।

156 Views
You may also like:
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का दर्द
Nitu Sah
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Nurse An Angel
Buddha Prakash
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Dr. Kishan Karigar
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
सुन्दर घर
Buddha Prakash
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
पल
sangeeta beniwal
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
*"पिता"*
Shashi kala vyas
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...