Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 16, 2016 · 1 min read

मेरा शहर.

कि मेरे शहर का हाल मत पूछ मेरे दोस्त,
यहाँ तो अब जमीन-ए-शमशान भी महेंगी हो गयी है.
जिस पेड़ पर बनाये थे परिन्दों ने घोंसले,
उस पेड़ से सब टहनियाँ नदारद हो गयी हैं,
उम्र बीती है जिस मोहल्ले में मेरी,
उम्र बीती है जिस मोहल्ले में मेरी,
उस मोहल्ले की सारी गलियां सुनसान हो गयी है.

– पंकज गुप्ता

1 Comment · 146 Views
You may also like:
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️खुशी✍️
"अशांत" शेखर
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
के के की याद में ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पैसों के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
जन्म दिन की बधाई..... दोस्त को...
Dr. Alpa H. Amin
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
✍️ग़लतफ़हमी✍️
"अशांत" शेखर
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
राम राज्य
Shriyansh Gupta
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इंतजार
Anamika Singh
पिता
Dr.Priya Soni Khare
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
मील का पत्थर
Anamika Singh
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...