Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2017 · 2 min read

मेरा शहर कानपुर – कुछ यादों की पंखुड़ियाँ। 01

मेरा शहर कानपुर – कुछ यादों की पंखुड़ियाँ। 01
बहुत मिस करता हूँ ओ मेरे शहर कानपुर
बहुत सुकून पाता हूँ
तेरे करीब आकर
वो गलियां, वो सड़कें, वो पत्थर कालेज
वो एलन फारेस्ट* की झील
जहां गुज़ारी थीं हमने
अपने दोस्तों संग
बचपन के दिनों की सुन्दर शामें
तब वहाँ जंगल ही जंगल था चारों ओर
और थी वो प्यारी से मनमोहक झील
शहर के शोर और कोलाहल से दूर बहुत दूर
और बरसात के दिनों में गंगा आ जाती थीं
पास वहाँ।
रोज ही बिताते थे हम सब घंटों अपनी शाम वहाँ
कमल के फूलों को कभी तोड़ते हुए
और कभी बनती थी हम सब की चाय वहाँ।
फिर वो गंगा की बालू वाली नाव को
रोज शाम डूबते सूरज की किरणों के बीच खेना
नारायण घाट से जगेस्वर मंदिर तक
पतवार या डंडे से खेकर ले जाना
और चाँद के सरकंडों के बीच से निकालने पर
मंदिर के दर्शन कर लौट कर आना
क्या नज़ारा होता था जब सफ़ेद बालू और
सफ़ेद सरकंडे के सफ़ेद फूलों के लहलाते पंखों पर
बिछी चांदी सी छिटकी चाँदनी को देख कर
जब हम कुछ अजीब से
ख़यालों में खो जाते थे
और याद आता है अक्सर
उस पतली सी बरसाती
नदिया की धीमें बहती धारा में
नाव को रोक कर
कुछ देर बालू पर लेट जाना.
और उस स्वर्गीय सुहानी नीरवता में
कुछ गीत गुनगुनाना या हँसना-हँसाना
फिर अचानक याद आने पर
कि नाव को तो किराये पर लिए
देर ज्यादा हो गई है
और पैसे ज्यादा देने पड़ेंगे
उस सुहाने से मंजर की यादों को
दिल में बसाये हम लौट पड़ते थे
मिल बाँट कर कुछ पैसे चुकाने
और ये सोचते कि आएंगे फिर भी किसी दिन
जब हो जाएँगे कुछ और रुपया या आनें
सभी के पास
मिल को देने को। ……..अगला भाग आगे फिर
Ravindra K Kapoor
6th Sept 2017
• अब वहाँ पर चिड़ियाघर है और वो झील भी अब वो
हरी भरी झील नहीं रही और तब भी हम सब आज़ाद नगर में
ही रहते थे।

265 Views
You may also like:
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
पिता की याद
Meenakshi Nagar
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
अनमोल राजू
Anamika Singh
मन
शेख़ जाफ़र खान
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Kanchan Khanna
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
Loading...