Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”

“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल

=======================

यह मेरा रंगमंच है

इसमें मेरी ही चलती है

मैं खुद लिखता भी हूँ

कोई नयी बातों का

सृजन करता हूँ

मैं कथाकार भी हूँ

अपनी कहानी गढ़ता भी हूँ

कभी गा लेता हूँ

सुर भी लगा लेता हूँ

अभिनय की भंगिमा को

जीवंत रखने के लिए

अभिनय भी कर लेता हूँ

सब भाषाओं से

मुझे प्यार है

उसे मैं सीखना चाहता हूँ

रंग भेद ,क्षेत्रीयता ,असहिष्णुता

का समावेश यहाँ वर्जित है

प्यार और शिक्षा को

करते यहाँ अर्जित हैं

अपनी कला को

जगजाहिर करते हैं

इस रंगमंच का मैं ही

सूत्रधार हूँ कथाकार हूँ

मैं ही दिग्दर्शक और

मैं ही कलाकार हूँ

मुझे तनिक भी खेद नहीं

दर्शक कोई हो ना हो

मैं स्वयं ताली पीटता हूँ

कोई पीटने वाला हो ना हो

सब अपनो में व्यस्त

रहा करते हैं

दूसरों की सुध कौन लेता है

यहाँ तो अपनो से ही लोग दूर रहते हैं

=====================

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”

साउंड हेल्थ क्लिनिक

एस ० पी ० कॉलेज रोड

दुमका

झारखण्ड

भारत

12.11.2022

Language: Hindi
Tag: कविता
30 Views
You may also like:
इन आँखों के भोलेपन में प्यार तुम्हारे लिए ही तो...
Sadhnalmp2001
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
कविता (घनाक्षरी)
Jitendra Kumar Noor
*मुकम्मल तब्दीलियाँ *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
बदतर होते हालात
Shekhar Chandra Mitra
तमन्ना अनूप
Dr.sima
खुद को बहला रहे हैं।
Taj Mohammad
" मेरी प्यारी नींद"
Dr Meenu Poonia
*होता कभी बिछोह 【 गीत 】*
Ravi Prakash
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
बेचने वाले
shabina. Naaz
जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है, मेरे...
Manisha Manjari
■ विशेष_आलेख / कूनो की धरा किसकी...?
*Author प्रणय प्रभात*
वरदान या अभिशाप फोन
AMRESH KUMAR VERMA
बहुत तकलीफ देता है
Dr fauzia Naseem shad
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ धनलक्ष्मी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
आजादी का अमृत महोत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
*,मकर संक्रांति*
Shashi kala vyas
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
खड़े सभी इक साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" स्वतंत्रता क्रांति के सिंह पुरुष पंडित दशरथ झा "
DrLakshman Jha Parimal
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
✍️अपनों के दाँव थे✍️
'अशांत' शेखर
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
Dr. Nisha Mathur
Loading...