Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 16, 2017 · 2 min read

==मेरा भारत ” सोन चिरैया “==

“सोन चिरैया ” शब्द भारत के उस स्वर्णिम युग का परिचायक था,
जब सकल विश्व इस महादेश के व्यापारियों
का संवाहक था।
सर्वोत्कृष्ट थी संस्कृति अपनी, थी सभ्यता सबसे प्राचीन,
सब थे शिष्य हमारे लंका, नेपाल, जापान
हो या चीन।
पूरब से पश्चिम तक ऐसा, बजता था अपना डंका,
भारत था सर्वश्रेष्ठ विश्व में, कहीं कोई नहीं थी शंका।
सुदूर देशों से अनेकों भारत में आए थे व्यापारी,
शनैः शनैः देश के व्यापार में उन्होंने सेंधें मारी
किन्तु कालांतर में समय ने बदली ऐसी करवट
उदारता का हमारा सद्गुण, दे गया हमको संकट।
विदेशी आततायियों से 15 अगस्त 1947 को हुए हम स्वतंत्र
देश में छाई शांति देश में आया लोकतंत्र।
यद्यपि एक भारत, श्रेष्ठ भारत हो हमारा
यह दिया हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी ने नारा।
तथापि हमें समझना होगा कि,
क्या है इसका अभिप्राय सारा।
महान नेता वल्लभभाई पटेल ने किया,
सारे छोटे राज्यों रियासतों का एकीकरण।
एक भारत श्रेष्ठ भारत का इसी में से, निकला है समीकरण।
भारत आज तरक्की पर है, देख रहा सारा संसार,
किन्तु बाह्य और आंतरिक खतरे खड़े यहां हजार।
नेताओं की अंतहीन ईष्या हो या आरक्षण का बवंडर,
आंतकवाद, अलगाववाद, बार्डर पर गोलियों ने कर दिए कई घर खंडहर।
नारी इज़्ज़त से खिलवाड़, बालिका भ्रूण हत्या, कृषक समस्या, बेरोजगारी
सबकी सब बनकर उभरी हैं देश में महामारी।
गृह युद्ध के पसरे हैं देश में विविध प्रकार,
तिस पर देश की बाह्य सीमाओं पर,
शत्रु खड़े करने को प्रहार।
बंधुओं, हमें इन समस्त रोगों को समूल मिटाना है।
“हमें यह करना चाहिए” के स्थान पर,
“हमें यह करके ही दिखाना है” का जिद्दी नारा लगाना है।
युवाशक्ति को दृढ़ता से आगे आना है। अपनी सोच को सकारात्मक बनाना है।
पहले घर में, फिर समाज में, तत्पश्चात,
प्रांत- प्रांत में दिलों की दूरियाँ मिटाना है।
भाषा, धर्म, स्थान, प्रांत का भेद ह्रदयों से हटाना है।
देश का हो चहुंमुखी विकास है मोदी जी का सपना,
नोट बंदी की और लाए डिजिटल इंडिया, कैशलेस भारत, जी एस टी और जन धन योजना।
सुनियोजित योजनाएं हमारी होंगी तभी त्वरित प्रभावी,
जब होगी हमारी युवा वाहिनी सेना हर योजना पर हावी।
फिर कोई शत्रु सर न उठा पाएगा न घर के न भीतर घर के बाहर।
जाति धर्म पर न टकराएंगे भाई भाई
नारी रहेगी सुरक्षित बेटी के जन्म पर,
खुश होकर बोलेंगे – “लक्ष्मी आई।”
यह दिन बिल्कुल दूर नहीं है रहिए पूर्ण आश्वस्त।
घर घर में गुंजित होगा नारा
एक भारत श्रेष्ठ भारत।
यदि हम रहे कृतसंकल्प तो वह दिन दूर नहीं हैं भैया
कि इक पुनः मेरा भारत बन जाएगा “सोन चिरैया”।

जय जय भारत जय जय भारत।
—रंजना माथुर दिनांक 30 /07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

313 Views
You may also like:
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
विजय कुमार 'विजय'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
Green Trees
Buddha Prakash
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
समय ।
Kanchan sarda Malu
💔💔...broken
Palak Shreya
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
Loading...