Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 9, 2022 · 1 min read

मेरा बचपन

कल कहते-कहते आज आ गया
आज देखा तो बचपन चला गया
पापा ने डांटा, तो मम्मी ने बचाया
मम्मी ने डांटा ,तो दिल ने रुलाया
हम सोचते ही रह गए कि बदलाव आ गया
आज देखा तो बचपन चला गया
हम चलना जानते थे लेकिन दुनिया घूम ली
मम्मी के आंचल में, पापा के प्यार से
सावन के झूले पर, पूरी मस्ती ढूंढ ली
यही कहते-कहते स्कूल का समय आ गया
आज देखा तो बचपन चला गया
बड़ा अच्छा लगता था बचपन में
जब पानी को मम्मा कहते थे
आज तो लोग फैशन में
अम्मा को मम्मा कहते हैं
कल कहते-कहते आज आ गया
आज देखा तो बचपन चला गया

1 Comment · 62 Views
You may also like:
नाम
Ranjit Jha
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शीतल पेय
श्री रमण
तलाश
Dr. Rajeev Jain
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
मन के गाँव
Anamika Singh
मुक्तक
AJAY PRASAD
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
जीवन
Mahendra Narayan
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
माटी का है मनुष्य
"अशांत" शेखर
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
Loading...