Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 5, 2022 · 1 min read

मेरा गुरूर है पिता

सुनो मेरा हर्ष,मेरा गर्व और मेरा गुरुर है पिता ।
मेरी सजल इन अंखियों का कोहिनूर है पिता ।।
मेरे पिता को है फक्र मुझपे और फ़िक्र है मेरी ।
इसीलिए तो मैं कहती हूं कि मेरा गुरूर है पिता ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूँ…………
एक दिन पूछा पिता से ज्यादा किससे प्यार है ।
बोले बेटा तो वृक्ष है पर मेरी बिटिया संसार है ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूँ………….
जन्म से पहले कहते थे मुझे बेटी की चाहत है ।
बेटा दीप बने ना बने बिटिया घर की रौनक है ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूं……..
कहते हैं बिटिया तुम तो किस्मत साथ लाई थी ।
अपने पिता की जाॅब की तूं ये सौगात लाई थी ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूं………
मेरे पिता ने मुझको आज यूं काबिल बनाया है ।
भाई के साथ पढ़ाकर मुझमें हौंसला जगाया है ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूं……….
सब हैं बहुत प्रसन्न सुनो आज शादी की बेला है ।
बेटी की जुदाई में मगर पिता का दिल अकेला है ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूं……….
मुझको गले लगा के खुद हैं आज आंसू छिपा रहे ।
अपनी लाडली को अपने हाथों वे डोली बिठा रहे ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूं……….
“विनोद” पिता भगवान ना सही फ़रिश्ते जरूर हैं ।
बेटियों के लिए पिता सदा से ही आँखों का नूर हैं ।।
इसीलिए तो मैं कहती हूं……….

47 Likes · 94 Comments · 501 Views
You may also like:
गम आ मिले।
Taj Mohammad
पिता
Mamta Rani
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
हम कहाँ लिख पाते 
Dr. Alpa H. Amin
पुराने खत
sangeeta beniwal
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
KAMAL THAKUR
आजमाइशें।
Taj Mohammad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
परदेश
DESH RAJ
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
Loading...