Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2022 · 1 min read

मेंहदी

?विषय मेंहदी?

सावन आते ही हाथो में
रच जाती है मेहंदी।
याद बहुत हैं आते साजन
जब लगे हाथो में मेहंदी।
संग सखी सब झूला झूले
और लगायें मेहंदी हाथो में।

वर्षा ऋतु आते ही ् भाव विभोर मन हो जाता।
गावै गोरी सावन गीत और लगावे मेहंदी हाथो में।
शुभ मंगलकारी हे मेहंदी
व्रत और त्योहार लगावें नारी
मेंहदी हाथों में।।

सुषमा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
108 Views

Books from Sushma Singh

You may also like:
🌸हे लोहपथगामिनी 🌸🌸
🌸हे लोहपथगामिनी 🌸🌸
Arvina
वैदेही का महाप्रयाण
वैदेही का महाप्रयाण
मनोज कर्ण
■ यादों का झरोखा...
■ यादों का झरोखा...
*Author प्रणय प्रभात*
‘वसुधैव कुटुम्बकम’ विश्व एक परिवार
‘वसुधैव कुटुम्बकम’ विश्व एक परिवार
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
* तिस लाग री *
* तिस लाग री *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*अभिनंदन ईमानदार प्रष्ठों का हिंदुस्तान के (गीत)*
*अभिनंदन ईमानदार प्रष्ठों का हिंदुस्तान के (गीत)*
Ravi Prakash
सुन सको तो सुन लो
सुन सको तो सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
दिनांक:-२३.०२.२३.
दिनांक:-२३.०२.२३.
Pankaj sharma Tarun
रे ज़िन्दगी
रे ज़िन्दगी
J_Kay Chhonkar
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
हमने सच को क्यों हवा दे दी
हमने सच को क्यों हवा दे दी
Dr Rajiv
उम्मीद का दिया जलाए रखो
उम्मीद का दिया जलाए रखो
Kapil rani (vocational teacher in haryana)
कुछ तो है
कुछ तो है
मानक लाल"मनु"
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
51-   प्रलय में भी…
51- प्रलय में भी…
Rambali Mishra
निशान
निशान
Saraswati Bajpai
गजल
गजल
Vijay kumar Pandey
*
*"काँच की चूड़ियाँ"* *रक्षाबन्धन* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
बिटिया दिवस
बिटिया दिवस
Ram Krishan Rastogi
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
श्याम सरीखे
कौन कितने पानी में
कौन कितने पानी में
Mukesh Jeevanand
पत्नी रुष्ट है
पत्नी रुष्ट है
Satish Srijan
"मेरा मन"
Dr Meenu Poonia
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
# मंजिल के राही
# मंजिल के राही
Rahul yadav
💐अज्ञात के प्रति-14💐
💐अज्ञात के प्रति-14💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देख करके फूल उनको
देख करके फूल उनको
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
काफिला यूँ ही
काफिला यूँ ही
Dr. Sunita Singh
हमने खुद को
हमने खुद को
Dr fauzia Naseem shad
कुछ वक्त के लिए
कुछ वक्त के लिए
Surinder blackpen
Loading...